15 सहजन के फायदे | 15 Benefits of Moringa in Hindi

सहजन एक लम्बी फलियों वाली सब्जी है, जोकि बहुत पॉसटिक आहार है। ये पूरे विश्व में उग्गाई जाती है। विज्ञान ने ये प्रमाणित कर दिया है कि इसका पेड़ का हर अंग हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी होता है। सहजन को अंग्रेजी में मॉरिंगा (Moringa) या ड्रमस्टिक ट्री भी कहा जाता है। ज्यादातर भारत के लोग इसको सब्जी व अन्य भोजन के रूप में बनाते हैं।आज में आपको ब्ताने जा रहा हूँ सहजन के फायदे।सहजन का पेड़ कही भी बहुत आसानी से कम पानी में भी लग जाता है और बहुत तेजी से बढ़ता है।इसमें एंटीओक्सिडेंट, बायोएक्टिव प्लांट कंपाउंड प्रचुर मात्रा में होते हैं।सहजन की पत्ती के अलावा इसकी फली, फूल, बीज में भी बहुत सारे गुण पाए जाते हैं। सहजन की सब्जी बना कर खाने से भी इसके अद्वितेएे लाभ उठाये जा सकते है।सहजन के फूल सलाद के रूप में भी खाए जाते हैं।

ज़रूर पढ़ें –  एलेक्ट्रॉनिक गॅडजेट्स का इस्तेमाल बहुत कम करें अन्यथा?

15 सहजन के फायदे , 15 Benefits of Moringa

ज़रूर पढ़ें – बच्चों के आचे स्वस्थ के लिए स्वदिस्त पेय

  • सहजन की पत्ती – इसकी पत्तियों में प्रोटीन, विटामिन – ब6,सी, ई,ए बहुत मात्रा में होते हैं। इसके अलावा इसकी पत्ती में आयरन, मैग्नीशियम, पोटैशियम, कैल्शियम, जिंक जैसे तत्व भी पाए जाते हैं।

ज़रूर पढ़ें – बच्चों के लिए सेहतमंद आहार 

  • सहजन की सूखी पत्तियों – इसकी सूखी पत्तियों के 100 ग्राम पाउडर में दूध से 17 गुना जयदा कैल्शियम और पालक से 25 गुना जयदा आयरन होता है, गाजर से 10 गुना जयदा बीटा-कैरोटीन होता है, केले से 3 गुना जयदा पोटैशियम और संतरे से 7 गुना जयदा विटामिन सी होता है। इतने गुण देख कर आप सोच रहे होंगें के मैने आज तक यहा क्यूँ नही खाया। लेकिन अभी भी देर नही हुई है आप अब भी इससे खाना शुरू कर सकते हैं और इसके लाभ ले सकते हैं।

ज़रूर पढ़ें – दिमाग़ को तन्द्रूस्त बनायें

  • सहजन की फलियाँ – इसकी फलियाँ और पत्ती का सूप पीने से या दाल में सहजन की पत्ती मिलाकर बनाने से यह आपकी रोगप्रतिरोधक क्षमता को बदाता है और बदलते मौसम के असर से आपका बचाव करता है। ऐसे मौसम में होने बीमारियाँ जैसे की सर्दी-जुकाम को रोकता है। यहाँ तक साइन्स ने प्रूव कर दिया है कि अगर हम इससे एड्स के रोगियों को दें तो उनको बीमारी में आराम मिल सकता है।
  • पेट की समस्या – सहजन पेट साफ करने में बहुत कारगर है। इसमें भरपूर मात्रा में फाइबर है जो कब्ज दूर करता है। पेट के अनचाहे कीड़े से भी मुक्ति दिलाता है। अगर सहजन की जड़ का पाउडर बना कर उससे लिया जाय तो पेट में पाए जाने वाले राउंड वर्म को भी खत्म करता है।
  • वजन घटाने में – सहजन में डाईयूरेटिक गुण से भरपूर होता हैं जो शरीर की कोशिकाओं में अनावश्यक जल को कम करता है। इसका एंटी-इन्फ्लेमेटोरी गुण शरीर की सूजन को कम करता हैं। इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है जो फैट अवशोषण को कम करता है और इन्सुलिन रेजिस्टेंस को कम करके अनावश्यक फैट को जमने नाही देता।
  • ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल लेवल – ये हाई ब्लड शुगर लेवल को कम करने में सक्षम है और साथ ही कोलेस्ट्रॉल कम करने की वजह से ह्रदय के लिए बहुत लाभकारी होता है।
  • दूध पिलाने वाली माताओं के लिए – एक पुराना रिवाज जिसमें सहजन की पत्ती को देसी घी में गर्म करके प्रसूता स्त्री को दिया जाता है। इसके सेवन से माता के दूध में कमी नहीं होती है शिशु के जन्म के बाद की कमजोरियों जैसे थकान आदि का भी सहजन का सेवन करने से आराम मिलता है और छोटे शिशु का स्वास्थ्य भी ठीक रहता है और वजन भी सही बढ़ता है। सहजन में पाए जाने वाला नॅचुरल कैल्शियम किसी भी कैल्शियम सप्लीमेंट से कई गुना अच्छा होता है।
  • कैंसर प्रतिरोधी – सहजन में बहुत सारे आंटी ऑक्सिडेंट्स हैं जो कैंसर के सेल्स से लड़ने में मददगार हैं। लिवर, स्किन फफडे के कैंसर में सहजन बहुत लाभदायक है।
  • शारीरिक उर्जा – सहजन में पाए जाने वाले एंटी ओक्सिडेंट शरीर की कोशिकाओं की अची मरम्मत करते हैं और नए टिश्यूस बनाते हैं। ये न्यूट्रीशनल गुणों से भरपूर सहजन शरीर में एनर्जी प्रदान करता है और जल्दी से थकान नहीं होने देता और पूरे शरीर का सही से विकास करता है।
  • किडनी स्टोन – यह किडनी में जमा हुआ अनावश्यक कैल्शियम को शरीर से बाहर निकालने में मदद करता है और किड्नी में स्टोन नहीं बनने देता। यह किडनी के स्टोन से होने वाला दर्द और जलन को भी कम करने में सक्षम है।
  • थाइरोइड – सहजन का सेवन करने से थाइरोइड ग्लैंड का सक्रिय ठीक हो जाता है और रोग मुक्ति दिलाता है।
  • बालों के लिए – सहजन में अची मात्रा मे जिंक, विटामिन और एमिनो एसिड्स होते हैं जो मिलकर केराटिन बनाते हैं जो बालों की अची ग्रोथ के लिए बहुत आवश्यक है। सहजन के बीज से तयर तेल बालों को लम्बे और घने करता है साथ ही साथ ये डैंड्रफ, बाल झड़ने की परेशानी को भी दूर करता है।
  • सहजन के फूलों की चाय – ये चाय न्यूट्रीशनल गुणों से भरपूर होती है. इस चाय को पीने से यूरिन का इन्फेक्शन, सर्दी-जुकाम आदि ठीक होते है।सहजन के इतने फायदे हैं कि गिनती भी कम पड़ जाती है – जैसे अनिद्रा को डोर करना, अस्थमा से निजात पाना, हाइपरटेंशन में आराम आना, र्युमॅटाय्ड आर्थराइटिस, एनीमिया, आंत का अल्सर जैसी घातक बीमारियों को ठीक करता है। दिमाग़ के आचे स्वास्थ्य के लिए सहजन बहुत लाजवाब है और डिप्रेशन, बेचैनी, थकान, भूलने की बीमारी को भी ठीक करता है।

About Nishant

The purpose of start writing this blog is to bring the awareness about the importance of health in life. I know there are already a lot of blogs present on the internet but very fewer bloggers are there who follow a healthy lifestyle. Happy reading and hope you will get something to follow in your health regimen.
View all posts by Nishant →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *