21 फलों के चमत्कारी लाभ | 21 Health Benefits of Fruits in Hindi

जब बात आपकी सेहत की हो तो हर समजदार आदमी का ध्यान सबसे पहले कुदरत की अनमोल चीज़ों पर जाता है जो सौंदर्य,शक्ति और स्वाद का भरपूर खजाना है।इनसे हमारे शरीर को कुछ भी नुकसान नही पहुँचता। जी हाँ हम बात कर रहे हैं फलों और सब्जियों की, जिनकी गुणवता को हर आदमी और चिकित्सक मान चुका है।

ज़रूर पढ़ें –  एलेक्ट्रॉनिक गॅडजेट्स का इस्तेमाल बहुत कम करें अन्यथा?

हूमें फलों को उनके मूल रूप में ही खाना चाईए। हूमें मौसमी फल ही खाने चाईए जिन पर कीटनाशक और पेस्टिसाइड्स का कम इस्तेमाल हुआ हो। तभी हमरे शरीर को स्वास्थ्य लाभ मिलेगा।क्योंकि मौसम वाले फलों में वो सब नैसर्गिक गुणों होते हैं जिनके लिये वे माने जाते हैं।
जैसे की सेब वैसे तो हम पूरे साल ले सकते हैं लेकिन उसकी फसल का सही समय अक्टूबर से दिसम्बर तक ही होता है। इस मौसम में वह अच्छी तरह से पाक जाता है और उसमें सेब के सारे गुण रहते हैं। अगर हम वह सेब खायें जो महीनों तक कोल्ड स्टोर्स में रखा हुआ है , उसमें पौस्तिक ततव पूरी मात्रा में नही मिलेंगें।

ज़रूर पढ़ें – बच्चों के लिए सेहतमंद आहार 

फलों अछा लाभ लेने के लिये, जहाँ तक भी संभव हो सके उन्हें ताज़ा और सहज अवस्था (कच्चा) में ही खाना चाहिये। उनको पकाने से उनके अधिकतर गुण समाप्त हो जाते हैं। साइन्स के एक अध्ययन के अनुसार आपकी खाने की प्लेट में आधा या उससे जयदा हिस्सा फल और सब्जियों से भरा होना चाहिये।

ज़रूर पढ़ें – दिमाग़ को तन्द्रूस्त बनायें

प्रातः काल का समय फलों के सेवन के लिए उत्तम बताया गया है। अगर आप प्रातः काल में नही खा पाते तो शाम का समय भी अच्छा रहता है बसरते आप दो या तीन घंटे से भूके हो। फल खाने के बाद एक घंटे का समय पर्याप्त होता पाचाने के लिए।अगर आप फलों के खाने के तुरंत बाद कुछ भोजन, चाय या कॉफ़ी को ग्रह्न करते हैं तो फलों का लाभ शून्य या बिल्कुल कम हो जाता है।

ज़रूर पढ़ें – गर्दन दर्द से राहत कैसे?

इसके अलावा फल कुछ अम्लीय होते हैं और भोजन या पानी के साथ लेने पर आपको जबरदस्त असिडिटी हो सकती है।इसलिए भोजन और फल खाने में कुछ समय का अंतराल रखना ज़रूरी है।एक बात में यहाँ पर आपको बता दूं की फलों का अधिकांश भाग में पानी होता है, इसलिये हूमें अलग से पानी पीने की ज़रूरत नही होति। फलों को नॉर्मल तापमान में रखना चाहीए।

आज में आपको बता रहा हूँ की फल खाने के क्या-क्या फायदे हैं और फलों के चमत्कारी लाभ।और इन्हें किस तरह खाना फयदेमंद होता है।

फलों के चमत्कारी लाभ

  • फल हमें जवान और वृद्धावस्था को दूर रखने में सक्षम हैं, क्योंकि फलो में बहुत मात्रा मे आंटीयाक्सिडंट्स पाये जाते हैं। ये शरीर का फ्री रॅडिकल्स के नुकसान से बचाव करते हैं। फ्री रॅडिकल्स मेटबॉलिज़म की प्रक्रिया के होने से पैदा होते हैं और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को कम बहुत कम कर देते हैं जिसे हम बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं।
  • हमें सप्ताह में एक सुनिचीत करके अन्न का पारीतयाग करके, केवल फल और जल को ग्रहण करना चाहे। ये एक प्राकृतिक चिकित्सा के समान है जिसमें हम अपने शरीर को एक दिन का विश्राम देना चाहिये। इससे हमारे शरीर को अविश्वसनीय परिणाम मिलता है। इसका कारण है , फल पचने में बहुत हल्के होते हैं जो पाचन संस्थान पर कोई भी दबाव नहीं डालते। जिसके परिणामस्वरूप आमाशय, यकृत व् आँतों समेत हरेक पाचक अंग को एक नया जीवन मिलता है।
  • हमारे शरीर में खून की कमी होने पर चिकित्सक हमें मौसमी, अनार, चुकंदर गाजर के जूस का सेवन करने को कहते हैं जो विटामिन ए, विटामिन सी और लौह तत्व से भरपूर होते हैं। हमें ये ध्यान रखना चाहीए की फलों के जूस का सेवन तुरंत निकलते ही करना चाहिये या उनमे किसी भी अन्य पदार्थ जैसे चीनी आदि की मिलावट नहीं करनी चाहिये। ऐसा करने से उनके गुण या तो नष्ट हो जाते हैं या फिर बहुत कम हो जाते हैं।
  • शरीर को ठीक रूप से चलाने के लिए फल हमें जरोरी मिनरल्स, विटमिन्स और उर्जा देते हैं जो सबसे अच्छा और आसान जरिया होते हैं।
  • फल विशेषकर ड्राइ फ्रूट्स हमारे प्रजनन संस्थान को स्वस्थ रखने में प्रभावी भूमिका निभाते हैं।
  • फल व्यस्त दिनचर्या और वर्काउट करने वाले लोगों के लिये तुरंत एनर्जी पाने का बहुत ही आसान तरीका है क्योंकि ये हमें तुरंत शक्ति प्रदान करते हैं। इसका कारण ये है की इनमे कोई प्रोटीन या वसा जैसे जटिल तत्व नहीं होते जिसे पचाने के लिये शरीर को बहुत कड़ी मेहनत करनी पड़े।
  • गर्मी के मौसम में आने वाले सभी फल पेय और जरोरी पोषक तत्वों सेभरे होते हैं जो हमारे शरीर को खतरनाक लू और गर्मी लगने से बचाते हैं।
  • फलों में लॅक्सेटिव एजेंट होते हैं और आँतों की आकुँचन-प्रकुंचन क्षमता को बढ़ाते हैं, जिससे मलों का शरीर से उचित निष्कासन हो पाता है। ये हमारे शरीर में होने वाली कॉन्स्टिपेशन, गॅस्ट्राइटिस और इंटेस्टिन बोवेल सिंड्रोम जैसी तकलीफदेह बीमारियों से बचाव करता है।
  • कई फलों का केमिकल स्ट्रक्चर्स अन्य फलों से अलग होता हैं, जिसके कारण ये फल हमें विशेष बीमारियों में सेवन करना चाहीए। जैसे के अगर खून की कमी होती है तो अनार खाना चाहीए, बुखार में कीवी और चीकू का सेवन करना चाहीए और कब्ज या गैस में पपीते और अमरुद को खाने से बहुत लाभ मिलता है।
  • चूँकि फलों में लगभग हर आवश्यक पोषक तत्व होते हैं जिसे हम मोटापे को नियंत्रित करने के साथ- साथ दिल की बीमारियों के खतरे को भी कम करता है। फलों में कोलेस्ट्रोल बिल्कुल भी नहीं होता।
  • फल हमारी त्वचा की रंगत को बड़ाता है और फोड़े-फुंसियों या कील-मुंहासों जैसी बीमारियों से बचाव करते हैं।
  • फलो में पानी के अधिक मात्रा होने के कारण यॅ हमारे शरीर में पानी के कमी नही होने देते जिसके कारण हमारे किड्नी और ब्लॅडर स्वस्थ और क्रियाशील लंबे समय तक बने रहते हैं।
  • गर्भवती स्त्रियों को फल आवश्या खाने चाहीए जिससे उनका और शिशु का स्वास्थ्य उत्तम बना रहता है।
  • कुछ फल हमरी अनिद्रा को ठीक करने में बहुत मदद करते हैं।
  • इसके अतिरिक्त कुछ फल इतने महत्वपूर्ण होते हैं जो उच्च रक्तचाप, डायबिटीज और कैंसर जैसी जानलेवा बीमारियों की रोकथाम में बहुतर सहायक होते हैं।
  • कुछ फल जिनमें ज़िंक अधिक मात्रा में होता है जैसे की – अओकाडोएस, बेरीस, किशमिश आदि हमारे बालों को स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाते हैं।
  • कुछ फल जैसे अलुभूखारा, जामुन डायबेटेस जैसे घातक बीमारी के रोकथाम के लिए बहुत लाभदायक है।
  • हमारी आँखों के लिए भी फल बहुत लाभदायक होते हैं।

इतने सारे फलों के गुणों को देख कर आप साँझ गये होगे के क्यूँ हमारे बड़े बुजुर्ग फल और सब्ज़ियाँ खाने पर ज़ोर देते थे।आज से ही आप फलों को अपने खाने में शुरू करें और अपने सहरीर को उत्तम बन्यें।

आखरी सुझाव   - आशा करता हूँ यह लेख आपको बहुत पसंद आया होगा।अगर आपको कोई सुझाव देना
 है तो कृपया करके हमें बतायें के कैसे जीवनसूत्र को और भी बेहतर कैसे बनाया जा सकता है। हम आपके 
 जीवन के उज्जवल भविष्य और सुखमय जीवन की शुभकामना करते हैं।

About Nishant

The purpose of start writing this blog is to bring the awareness about the importance of health in life. I know there are already a lot of blogs present on the internet but very fewer bloggers are there who follow a healthy lifestyle. Happy reading and hope you will get something to follow in your health regimen.
View all posts by Nishant →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *