गर्दन में दर्द और इसके उपचार , Treat Neck Pain

आपकी गर्दन खोपड़ी और ऊपरी धड़ को जोड़ती है। यह शॉक आबॉर्बेर का काम भी करती है।गर्दन में दर्द और इसके उपचार।

आपकी गर्दन में जो हड्डियों और मांसपेशियां होती हैं वो आपके सिर का समर्थन करती हैं। किसी भी वजह से, सूजन, या चोट लगने से गर्दन में दर्द का कारण हो सकता है।

कुछ लोगों को गर्दन में दर्द या कठोरता कभी कभी आभास होता है। अधिकतर मामलों में यह खराब बैठने से या जयदा उपयोग के कारण से हो सकता है।

ज़रूर पढ़ें – बच्चों के आचे स्वस्थ के लिए स्वदिस्त पेय

ज्यादातर गर्दन का दर्द गंभीर स्थिति नहीं होती और कुछ दिनों में ठीक हो जाता है।कभी कभी गर्दन का दर्द जयदा समय तक रहे तो डॉक्टर से मशवरा करना ज़रूरी हो जाता है।

ज़रूर पढ़ें – बच्चों के लिए सेहतमंद आहार 

गर्दन का दर्द सामान्यतः लोगों को आजकल हो जाता है। ऐसे मे हम अगर गर्दन को ज़रा सा भी हिलाते हैं तो तेज़ दर्द होता है। अगर हम लापरवाही करें तो गर्दन मे सूजन भी आ जाती है। ऐसी समस्या होने पर तुरन्त इसका उपचार करना बहुत ज़रूरी।

ज़रूर पढ़ें – पानी पीने के फय्दे

गर्दन में दर्द होने के कुछ विशेष कारण

  • एक ही तरफ़ गरदन को मोड़कर बैठना
  • सिर पर काफ़ी बोझ को उठना
  • रात के समय एक ही करवट में सोना
  • खराब बैठने के तरीके से
  • अगर नरम गध्दो पर सोया जाए बहुत ज़्यादा देर तक देखना
  • काफ़ी देर तक पड़ना या कंप्यूटर पर काम करना
  • नसों में ठीक से खून का संचरण ना होना

गर्दन में दर्द होने के कुछ लक्षण

  • गर्दन को अगर आगे-पीछे देखते हैं तो दर्द होता है
  • गर्दन का अकड़ जाना
  • गर्दन मे चटख आना

घरेलू उपचार और क्या खाएँ

  • गर्दन मे दर्द होने पर पौष्टिक आहार खाना चाईए, जिसमें विटामिन डी और कैलशियम भरपूर मात्रा में हमरे शरीर को मिले।
  • गाड़ी चलाते समय गर्दन को सीधा करके बैठे।
  • पड़ते वक़्त गर्दन को सीधा करके बैठे।
  • सोते समय नर्म और कम ऊँचाई वाले तकिये पर सोयें।
  • धूम्रपान बिल्कुल भी न करें।
  • अगर कम्प्यूटर पर काम करें तो गर्दन को थोड़ी-थोड़ी देर मे इधर-उधर घुमाते ज़रूर रहें।
  • गर्दन में दर्द होने पर शुरू में कुछ दिन बर्फ लगायें। उसके बाद एक हीटिंग पैड से सिकाई करें या गर्म स्नान लें।
  • अपनी गर्दन का कुछ व्यायाम करें। धीरे-धीरे अपने सिर को ऊपर नीचे या आयेज पीछे घूमयें।
  • खेल या वजन उठाने वाली एक्सर्साइज़ को कुछ दिन के लिए रोक दें जब तक आपको कुछ आराम मिल जाए।
आखरी सुझाव - अगर फिर भी गर्दन में दर्द जयदा हो तो डॉक्टर से ज़रूर मिलें।डॉक्टर के सलाह के 
              बिना कोई भी दवाई का या कॉलर नेक्क का सेवन ना करें।

 

About Nishant

The purpose of start writing this blog is to bring the awareness about the importance of health in life. I know there are already a lot of blogs present on the internet but very fewer bloggers are there who follow a healthy lifestyle. Happy reading and hope you will get something to follow in your health regimen.
View all posts by Nishant →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *